Aa Gale Lag Ja lyrics 1964

Aa Gale Lag Ja Golden lyrics 1964

❛ आ गले लग जा…❜

आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
[ आऽऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आ ] (२)
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||ध्रु||
आबाद है तू मेरी धड़कनों में, मेरी जान तुझमें बसी है
बादल से जो आस है मोर को, मेरे दिल को वो तुझसे लगी है
इक तेरी मुस्कान अँगड़ाई लेती हुई, मेरी तक़दीर जागे
इक तेरी झलकी चली आए पल में, मेरी मंज़िलें मेरे आगे
आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
हो आऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽ, मेरे पास आ
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||१||
मत आज़मा तू मेरे प्यार को, खेल मत यूँ मेरी ज़िन्दगी से
उल्फ़त के मारों को क्या मारना, जान दे देते हैं जो ख़ुशी से
ये हुस्न जिसको मिले जाने-जाँ, बेदिली उसको सजती नहीं है
हो ख़ूबरू चाँद से जो हसीं, बेरुख़ी उसकी जँचती नहीं है
आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
[ आऽऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आ ] (२)
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||२||
फ़िल्म:- अप्रैल फ़ूल (१९६४)
गीतकार:- शैलेन्द्र
संगीतकार:- शंकर जयकिशन
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

❛ आ गले लग जा…❜

आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
[ आऽऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आ ] (२)
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||ध्रु||

आबाद है तू मेरी धड़कनों में, मेरी जान तुझमें बसी है
बादल से जो आस है मोर को, मेरे दिल को वो तुझसे लगी है
इक तेरी मुस्कान अँगड़ाई लेती हुई, मेरी तक़दीर जागे
इक तेरी झलकी चली आए पल में, मेरी मंज़िलें मेरे आगे
आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
हो आऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽ, मेरे पास आ
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||१||

मत आज़मा तू मेरे प्यार को, खेल मत यूँ मेरी ज़िन्दगी से
उल्फ़त के मारों को क्या मारना, जान दे देते हैं जो ख़ुशी से
ये हुस्न जिसको मिले जाने-जाँ, बेदिली उसको सजती नहीं है
हो ख़ूबरू चाँद से जो हसीं, बेरुख़ी उसकी जँचती नहीं है
आऽऽऽ गले लग जाऽऽऽ
मेरे सपनेऽऽऽ, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आऽऽऽ
[ आऽऽऽ गले लग जा
मेरे सपने, मेरे अपनेऽऽऽ, मेरे पास आ ] (२)
ओऽऽ हो हो हो आऽऽ गले लग जाऽऽ… ||२||

फ़िल्म:- अप्रैल फ़ूल (१९६४)
गीतकार:- शैलेन्द्र
संगीतकार:- शंकर जयकिशन
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

DOWNLOAD PDF आ गले लग जा.अप्रैल फ़ूल (१९६४)

Leave a Reply