AAJ SE PEHLE AAJ SE ZYADA LYRICS 1976

AAJ SE PEHLE AAJ SE ZYADA
GOLDEN LYRICS IN HINDI 1976

❛ आज से पहले आज से ज़्यादा…❜

आज से पहले, आज से ज़्यादा (२)
ख़ुशी आज तक नहीं मिली,
इतनी सुहानी, ऐसी मीठी (२)
घड़ी आज तक नहीं मिली, आज से पहले… ||ध्रु.||

इसको संजोग कहें या, क़िस्मत का लेखा
हम जो अचानक मिले हैं
ओऽऽ इसको संजोग कहें या, क़िस्मत का लेखा
हम जो अचानक मिले हैं
मनचाहे साथी पा के, हम सबके चेहरे
देखो तो कैसे खिले हैं
ओऽऽऽ तक़दीरों को, जोड़ दे ऐसी
इन तक़दीरों को, जोड़ दे ऐसी
कड़ी आज तक नहीं मिली, आज से पहले… ||१||

सपना हो जाये वो पूरा, जो हमने देखा
ये मेरे दिल की दुआ है
ओऽऽ सपना हो जाये वो पूरा, जो हमने देखा
ये मेरे दिल की दुआ है
ये पल जो बीत रहे हैं, इनके नशे में
दिल मेरा गाने लगा है
ओऽऽऽ इसी ख़ुशी को, ढूँढ रहे थे
हम इसी ख़ुशी को, ढूँढ रहे थे
यही आज तक नहीं मिली, आज से पहले… ||२||

दिल में तूफ़ान उठा है, होंटों पे नग़मा
आँखों में आँसू ख़ुशी के
ओऽऽ दिल में तूफान उठा है, होंटों पे नग़मा
आँखों में आँसू ख़ुशी के
अपनों के पास पहुँच के, अपनों से दूरी
ऐसा ना हो संग किसी के
ओऽऽऽ कोई कहे ना मंज़िल मुझको
यूँ कोई कहे ना मंज़िल मुझको
मिली आज तक नहीं मिली
आज से पहले आज से ज़्यादा
ख़ुशी आज तक नहीं मिली, आज से पहले… ||३||

फ़िल्म:- चितचोर (१९७६)
गीत:- रविन्द्र जैन
संगीत:- रविन्द्र जैन
गायक:- येशुदास

❛ आज से पहले आज से ज़्यादा…❜

आज से पहले, आज से ज़्यादा (२)
ख़ुशी आज तक नहीं मिली,
इतनी सुहानी, ऐसी मीठी (२)
घड़ी आज तक नहीं मिली,
आज से पहले… ||ध्रु.||

इसको संजोग कहें या,
क़िस्मत का लेखा
हम जो अचानक मिले हैं
ओऽऽ इसको संजोग कहें या,
क़िस्मत का लेखा
हम जो अचानक मिले हैं
मनचाहे साथी पा के,
हम सबके चेहरे
देखो तो कैसे खिले हैं
ओऽऽऽ तक़दीरों को, जोड़ दे ऐसी
इन तक़दीरों को, जोड़ दे ऐसी
कड़ी आज तक नहीं मिली,
आज से पहले… ||१||

सपना हो जाये वो पूरा,
जो हमने देखा
ये मेरे दिल की दुआ है
ओऽऽ सपना हो जाये वो पूरा,
जो हमने देखा
ये मेरे दिल की दुआ है
ये पल जो बीत रहे हैं,
इनके नशे में
दिल मेरा गाने लगा है
ओऽऽऽ इसी ख़ुशी को, ढूँढ रहे थे
हम इसी ख़ुशी को, ढूँढ रहे थे
यही आज तक नहीं मिली,
आज से पहले… ||२||

दिल में तूफ़ान उठा है,
होंटों पे नग़मा
आँखों में आँसू ख़ुशी के
ओऽऽ दिल में तूफान उठा है,
होंटों पे नग़मा
आँखों में आँसू ख़ुशी के
अपनों के पास पहुँच के,
अपनों से दूरी
ऐसा ना हो संग किसी के
ओऽऽऽ कोई कहे ना मंज़िल मुझको
यूँ कोई कहे ना मंज़िल मुझको
मिली आज तक नहीं मिली
आज से पहले आज से ज़्यादा
ख़ुशी आज तक नहीं मिली,
आज से पहले… ||३||

फ़िल्म:- चितचोर (१९७६)
गीत:- रविन्द्र जैन
संगीत:- रविन्द्र जैन
गायक:- येशुदास

DOWNLOAD PDF आज से पहले आज से ज़्यादा.चितचोर (१९७६)

 

 

 

 

3 Comments

  1. zorivare worilon June 30, 2022

Leave a Reply