AAO HUZUR TUMKO LYRICS IN HINDI 1968

AAO HUZUR TUMKO
GOLDEN LYRICS IN HINDI 1968

❛ आओ हुज़ूर तुमको…❜

(हँसी)
हमसे रौशन हैं चाँद और तारे, हमको दामन समझिये ग़ैरत का
उठ गये हम अगर ज़माने से, नाम मिट जायेगा मुहब्बत का
दिल है नाज़ुक कली से फूलों से, ये न टूटे ख़याल रखियेगा
और अगर आपसे ये टूट गया, जाने-जाँ इतना ही समझियेगा
क्या?
फिर कोई बाँवरी मुहब्बत की, अपनी ज़ुल्फ़ें नहीं सँवारेगी
आरती फिर किसी कन्हैया की, कोई राधा नहीं उतारेगी
(हिचकी) [ आओ हुज़ूर तुमको, सितारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ ] (२)
आओ हुज़ूर आओ… ||ध्रु.||
[ हमराज़ हमख़याल तो हो, हमनज़र बनो
तय होगा ज़िन्दगी का सफ़र, हमसफ़र बनो ] (२)
आ हा आऽऽऽऽ… आऽऽऽ… आऽऽऽऽ ओऽऽऽ
आ हा हाऽऽ ओ हो होऽऽ आ हा हाऽऽ
(हिचकी) चाहत के उजले-उजले, नज़ारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर आओ… ||१||
लिख दो (हँसी-हिचकी-आह)
[ लिख दो किताबे-दिल पे कोई, ऐसी दास्ताँ
जिसकी मिसाल दे न सकें, सातों आसमाँ ] (२)
आ हा आऽऽऽऽ… आऽऽऽ… आऽऽऽऽ ओऽऽऽ
आ हा हाऽऽ ओ हो होऽऽ आ हा हाऽऽ
(हिचकी) बाहों में बाहें डालें, हज़ारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर तुमको, सितारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर आओ… ||२||
फ़िल्म:- क़िस्मत (१९६८)
गीतकार:- नूर देवासी
संगीतकार:- ओ. पी. नैय्यर
गायिका:- आशा भोसले

 

❛ आओ हुज़ूर तुमको…❜

(हँसी)
हमसे रौशन हैं चाँद और तारे, हमको दामन समझिये ग़ैरत का
उठ गये हम अगर ज़माने से, नाम मिट जायेगा मुहब्बत का
दिल है नाज़ुक कली से फूलों से, ये न टूटे ख़याल रखियेगा
और अगर आपसे ये टूट गया, जाने-जाँ इतना ही समझियेगा
क्या?
फिर कोई बाँवरी मुहब्बत की, अपनी ज़ुल्फ़ें नहीं सँवारेगी
आरती फिर किसी कन्हैया की, कोई राधा नहीं उतारेगी

(हिचकी) [ आओ हुज़ूर तुमको, सितारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ ] (२)
आओ हुज़ूर आओ… ||ध्रु.||

[ हमराज़ हमख़याल तो हो, हमनज़र बनो
तय होगा ज़िन्दगी का सफ़र, हमसफ़र बनो ] (२)
आ हा आऽऽऽऽ… आऽऽऽ… आऽऽऽऽ ओऽऽऽ
आ हा हाऽऽ ओ हो होऽऽ आ हा हाऽऽ
(हिचकी) चाहत के उजले-उजले, नज़ारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर आओ… ||१||

लिख दो (हँसी-हिचकी-आह)
[ लिख दो किताबे-दिल पे कोई, ऐसी दास्ताँ
जिसकी मिसाल दे न सकें, सातों आसमाँ ] (२)
आ हा आऽऽऽऽ… आऽऽऽ… आऽऽऽऽ ओऽऽऽ
आ हा हाऽऽ ओ हो होऽऽ आ हा हाऽऽ
(हिचकी) बाहों में बाहें डालें, हज़ारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर तुमको, सितारों में ले चलूँ (हिचकी)
दिल झूम जाये ऐसी, बहारों में ले चलूँ
आओ हुज़ूर आओ… ||२||

फ़िल्म:- क़िस्मत (१९६८)
गीतकार:- नूर देवासी
संगीतकार:- ओ. पी. नैय्यर
गायिका:- आशा भोसले

डाउनलोड PDF आओ हुज़ूर तुमको.क़िस्मत (१९६९)

Leave a Reply