Category: मेरी क़लम

क्या फ़र्क़ पड़ता है

क्या फ़र्क़ पड़ता है किसी एक के सुधर जाने से क्या फ़र्क़ पड़ जायेगा। सारी दुनिया बेईमान है। बाप-बेटा, नेता-अभिनेता, पुलिस-वकील-जज सब चोर हो गये हैं, किसी पर भरोसा …

मैं रावण हूँ जग जानता है

मैं रावण हूँ जग जानता है रावण को हम सब अत्याचारी मानते हैं, किन्तु रावण श्राप के कारण दानव बना हुआ था। देखने जायें तो र‍ावण की तुलना में …

पत्रकार का अर्थ चुग़ुलख़ोर

पत्रकार का अर्थ चुग़ुलख़ोर “सर प्लीज़, ये वीडियो मिडिया में मत दिखाना।” “देखिये, मैं एक पत्रकार हूँ। दुनिया को सच्चाई बताना मेरा फ़र्ज़ है।” “लेकिन आपके सच्चाई बताने से …

हिंदी लिखावट कैसे सुधारें

हिंदी लिखावट कैसे सुधारें हस्तलेखन (हैंडराइटिंग) अच्छी प्रतिभा का सूचक माना जाता है। आज भले ही कम्प्यूटर या मोबाइल से शब्द टाइप कर दिये जाते हैं, किन्तु अच्छी लिखावट …