Geet gata chal lyrics in hindi 1975

GEET GATA CHAL
GOLDEN LYRICS IN HINDI 1975

गीत गाता चल (FULL VERSION)

गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल (२)
ओ बन्धू रेऽऽऽऽ एऽऽऽ एऽऽऽऽ
हँसते-हँसाते बीते हर घड़ी हर पल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||ध्रु.||
खुला खुला गगन ये, हरी-भरी धरती
जितना भी देखो, तबीयत नहीं भरती
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ सुन्दर से सुन्दर, हर इक रचना
फूल कहें काँटों में भी, सीखो हँसना
(CH) ओ साथी सीखो हँसना
ओ राही रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
कुम्हला ना जाये कहीं, मन तेरा कोमल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||१||
(CH) हई होऽऽ… हई होऽऽ… हइया हो होऽऽऽऽऽ
हो ओऽऽऽ होऽऽ (CH) हो ओऽऽऽ होऽऽ
ओ ओ ओऽऽ ओऽऽऽ ओ ओ ओऽऽऽऽऽ
चाँदी-सा चमकता ये नदियाँ का पानी
पानी की हर इक बूँद देती ज़िन्दगानी
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ अम्बर से बरसे ज़मीन से मिले
नीर के बिना तो भइया काम ना चले
(CH) ओ भइया काम ना चले
ओ मेघा रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
जल जो ना होता तो ये जग जाता जल
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||२||
कहाँ से तू आया और कहाँ तुझे जाना है
ख़ुश है वही जो इस बात से बेग़ाना है
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ चल चल चलती हव‍ाएँ करें शोर
उड़ते पखेरू खींचें मनवा की डोर
(CH) ओ खींचें मनवा की डोर
ओ पंछी रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
पंछियों के पंख ले के हो जा तू ओझल
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता
चल रे चल
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता (३)…||३||
फ़िल्म:- गीत गाता चल (१९७५)
गीतकार:- रविन्द्र जैन
संगीतकार:- रविन्द्र जैन
गायक:- जसपाल सिंह

ध्यान दें:- फ़िल्म के आरम्भ में इस गीत के दो ही अन्तरे गाये गये हैं, जो इस प्रकार हैं।

गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल (२)
ओ बन्धू रेऽऽऽऽ एऽऽऽ एऽऽऽऽ
हँसते-हँसाते बीते हर घड़ी हर पल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||ध्रु.||
खुला खुला गगन ये, हरी-भरी धरती
जितना भी देखो, तबीयत नहीं भरती
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ सुन्दर से सुन्दर, हर इक रचना
फूल कहें काँटों में भी, सीखो हँसना
(CH) ओ साथी सीखो हँसना
ओ राही रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
कुम्हला ना जाये कहीं, मन तेरा कोमल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||१||
(CH) हई होऽऽ… हई होऽऽ… हइया हो होऽऽऽऽऽ
हो ओऽऽऽ होऽऽ (CH) हो ओऽऽऽ होऽऽ
ओ ओ ओऽऽ ओऽऽऽ ओ ओ ओऽऽऽऽऽ
चाँदी-सा चमकता ये नदियाँ का पानी
पानी की हर इक बूँद देती ज़िन्दगानी
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ अम्बर से बरसे ज़मीन से मिले
नीर के बिना तो भइया काम ना चले
(CH) ओ भइया काम ना चले
ओ मेघा रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
जल जो ना होता तो ये जग जाता जल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता
चल रे चल
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल (३)…||२||

 

❛ गीत गाता चल…❜

गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल (२)
ओ बन्धू रेऽऽऽऽ एऽऽऽ एऽऽऽऽ
हँसते-हँसाते बीते हर घड़ी हर पल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||ध्रु.||

खुला खुला गगन ये, हरी-भरी धरती
जितना भी देखो, तबीयत नहीं भरती
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ सुन्दर से सुन्दर, हर इक रचना
फूल कहें काँटों में भी, सीखो हँसना
(CH) ओ साथी सीखो हँसना
ओ राही रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
कुम्हला ना जाये कहीं, मन तेरा कोमल
(CH) गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||१||

(CH) हई होऽऽ… हई होऽऽ… हइया हो होऽऽऽऽऽ
हो ओऽऽऽ होऽऽ (CH) हो ओऽऽऽ होऽऽ
ओ ओ ओऽऽ ओऽऽऽ ओ ओ ओऽऽऽऽऽ
चाँदी-सा चमकता ये नदियाँ का पानी
पानी की हर इक बूँद देती ज़िन्दगानी
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ अम्बर से बरसे ज़मीन से मिले
नीर के बिना तो भइया काम ना चले
(CH) ओ भइया काम ना चले
ओ मेघा रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
जल जो ना होता तो ये जग जाता जल
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता चल…||२||

कहाँ से तू आया और कहाँ तुझे जाना है
ख़ुश है वही जो इस बात से बेग़ाना है
(CH) ओ होऽऽ ओ होऽऽ ओ होऽऽ
ओऽऽऽ चल चल चलती हव‍ाएँ करें शोर
उड़ते पखेरू खींचें मनवा की डोर
(CH) ओ खींचें मनवा की डोर
ओ पंछी रेऽऽऽऽ (CH) आ आ आ
एऽऽऽ एऽऽऽऽ
पंछियों के पंख ले के हो जा तू ओझल
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता चल
ओ साथी
(CH) गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता
चल रे चल
(CH) गीत गाता चल,
ओ साथी गुनगुनाता (३)…||३||

फ़िल्म:- गीत गाता चल (१९७५)
गीतकार:- रविन्द्र जैन
संगीतकार:- रविन्द्र जैन
गायक:- जसपाल सिंह

PDF DOWNLOAD गीत गाता चल. शीर्षगीत (१९७५)

 

Leave a Reply