Insaf ka mandir hai lyrics 1954

INSAF KA MANDIR HAI
GOLDEN LYRICS IN HINDI 1954

❛ इन्साफ़ का मन्दिर…❜

इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है (२)
(कोरस) इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है
कहना है जो कह दे तुझे किस बात का डर है… ||ध्रु||

है खोट तेरे मन में जो भगवान से है दूर (२)
हैं पाँव तेरे (२) फिर भी तू…
आने से है मजबूर (२)
हिम्मत है तो आ जा ये भलाई की डगर है
इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है… ||१||

सुख दे के जो दुखियों से न इन्साफ़ करेगा
भगवान भी उसको न कभी माफ़ करेगा
ये सोच ले (२) ये सोच ले हर बात की…
दाता को ख़बर है (२)
इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है… ||२||

है पास तेरे जिसकी अमानत उसे दे दे (२)
निर्धन भी है (२) इन्सान…
मोहब्बत उसे दे दे (२)
जिस दर पे सभी एक हैं, बन्दे ये वो दर है
इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है… ||३||
मायूस न हो हार के तक़दीर की बाज़ी (२)
प्यारा है वो ग़म जिसमें हो, भगवान भी राज़ी
दुख दर्द मिले (२) जिसमें…
वो ही प्यार अमर है (२)
ये सोच ले हर बात की दाता को ख़बर है
(कोरस) इन्साफ़ का मन्दिर है ये भगवान का घर है (२)… ||४||

फ़िल्म:- राजहठ (१९५६)
गीतकार:- हसरत जयपुरी
संगीतकार:- शंकर जयकिशन
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

How to search:- गुगल पर गीत के बोल टाइप करें, उसके बाद golden lyrics या lyrics golden टाइप करें। हर गीत का PDF अन्त में उपलब्ध है।

❛ इन्साफ़ का मन्दिर…❜

[ इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है ] (२)
(कोरस) इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है
कहना है जो कह दे तुझे
किस बात का डर है… ||ध्रु||

[ है खोट तेरे मन में जो
भगवान से है दूर ] (२)
हैं पाँव तेरे (२) फिर भी तू…
आने से है मजबूर (२)
हिम्मत है तो आ जा ये
भलाई की डगर है
इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है… ||१||

सुख दे के जो दुखियों से
न इन्साफ़ करेगा
भगवान भी उसको
न कभी माफ़ करेगा
ये सोच ले (२)
ये सोच ले हर बात की…
दाता को ख़बर है (२)
इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है… ||२||

[ है पास तेरे जिसकी
अमानत उसे दे दे ] (२)
निर्धन भी है (२) इन्सान…
मोहब्बत उसे दे दे (२)
जिस दर पे सभी एक हैं
बन्दे ये वो दर है
इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है… ||३||

[ मायूस न हो हार के
तक़दीर की बाज़ी ] (२)
प्यारा है वो ग़म जिसमें हो
भगवान भी राज़ी
दुख दर्द मिले (२) जिसमें…
वो ही प्यार अमर है (२)
ये सोच ले हर बात की
दाता को ख़बर है
(कोरस) इन्साफ़ का मन्दिर है ये
भगवान का घर है (२)… ||४||

फ़िल्म:- अमर (१९५४)
गीतकार:- शकील बदायुनी
संगीतकार:- नौशाद अली
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

PDF इन्साफ़ का मन्दिर.अमर (१९५४)

 

One Response

  1. zmozeroteriloren November 23, 2022

Leave a Reply