Tera Husna Rahe Lyrics in hindi 1968

TERA HUSNA RAHE MERA ISHQ RAHE
GOLDEN LYRICS IN HINDI 1968

❛ तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे…❜

[ तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में
किसी और का नाम रहे ना रहे ] (२)
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||ध्रु.||

 

[ मेरी प्यास का कोई हिसाब नहीं
तेरी मस्त नज़र का जवाब नहीं ] (२)
इसी मस्त नज़र से पिलाये जा (२)
मेरे सामने जाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||१||

 

[ मैं बहकने लगा हूँ सँभाल ज़रा
मेरे पास ही रह कहीं दूर न जा ] (२)
कोई ठीक नहीं के बहारों का
यहाँ और क़याम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||२||

 

[ जो निगाह उठी तो पयाम मिला
जो निगाह झुकी तो सलाम मिला ] (२)
इसी वक़्त बुझा दे लगी दिल की (२)
ये पयामो-सलाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में
किसी और का नाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||३||

फ़िल्म:- दो दिल (१९६५)
गीतकार:- कैफ़ी आज़मी
संगीतकार:- हेमन्त कुमार
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

शब्दार्थ
क़याम:- ठहरना, ठहराव
पयाम:- पैग़ाम

How to search:- गुगल पर गीत के बोल टाइप करें, उसके बाद golden lyrics या lyrics golden टाइप करें। हर गीत का PDF अन्त में उपलब्ध है।

❛ तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे…❜

[ तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में
किसी और का नाम रहे ना रहे ] (२)
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||ध्रु.||

[ मेरी प्यास का कोई हिसाब नहीं
तेरी मस्त नज़र का जवाब नहीं ] (२)
इसी मस्त नज़र से पिलाये जा (२)
मेरे सामने जाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||१||

[ मैं बहकने लगा हूँ सँभाल ज़रा
मेरे पास ही रह कहीं दूर न जा ] (२)
कोई ठीक नहीं के बहारों का
यहाँ और क़याम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||२||

[ जो निगाह उठी तो पयाम मिला
जो निगाह झुकी तो सलाम मिला ] (२)
इसी वक़्त बुझा दे लगी दिल की (२)
ये पयामो-सलाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में
किसी और का नाम रहे ना रहे
तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे
तो ये सुबहो ये शाम रहे ना रहे… ||३||

फ़िल्म:- दो दिल (१९६५)
गीतकार:- कैफ़ी आज़मी
संगीतकार:- हेमन्त कुमार
गायक:- मोहम्मद रफ़ी

PDF तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे.दो दिल (१९६५)

Leave a Reply